सीएम योगी का यूपी में बदलाव की ओर एक और कदम, इस बार बनाया लेदर इंडस्ट्री को निशाना!

इन सबके अलावा भी सीएम योगी ने कई बड़े फैसले लिए हैं और इन फैसलों से ज्यादातर जनता खुश लग रही है और ऐसा प्रतीत हो रहा है कि मोदी लहर के बाद अब योगी-राज का प्रारंभ हो गया है|

6805

देश में इस वक्त हर तरफ मोदी-मोदी या योगी-योगी की बहार है| उत्तर प्रदेश के 2017 के चुनाव में भाजपा ने पूर्ण बहुमत से जीत हासिल कर जहाँ अपने अनुयायियों को खुश कर दिया वहीं दूसरी तरफ योगी आदित्यनाथ को उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री बनाकर सबको हक्का-बक्का कर दिया| 19 मार्च 2017 को शपथ लेते ही योगी आदित्यनाथ एक्शन में आगए| मुख्यमंत्री बनने के कुछ घंटों के अंदर ही सीएम योगी ने कई बड़े फैसले ले लिए| सीएम के आदेश के अनुसार बड़े फैसले सामने आये हैं –यूपी में सभी अवैध बूचड़खानों पर प्रतिबन्ध लगा दिया गया है| किसानों के 1 लाख तक के क़र्ज़ माफ़ कर दिए गये हैं| परीक्षा में नक़ल करने वालों पर कड़ी कारवाई करने को कहा गया है|

इन सबके अलावा भी सीएम योगी ने कई बड़े फैसले लिए हैं और इन फैसलों से ज्यादातर जनता खुश लग रही है और ऐसा प्रतीत हो रहा है कि मोदी लहर के बाद अब योगी-राज का प्रारंभ हो गया है| योगी सरकार ने अब एक और निर्णय लिया है जिससे गंगा नदी का उद्धार हो सकता है|

गंगा नदी के किनारे पर 400 टेनरियाँ स्थापित हैं जिन्हें शिफ्ट करने के फैसले पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मुहर लगा दी है| साल 2019 में इलाहाबाद में अर्धकुम्भ मेले का आयोजन होने वाला है जिसकी तैयारी अभी से चल रही है| इस तैयारी के विषय में लखनऊ में शुक्रवार को बात-चीत के दौरान मुख्यमंत्री ने यह बिलकुल स्पष्ट रूप से बता दिया कि गंगा किनारे बसे कन्नौज और कानपूर के सभी चमड़ा उद्योगों को शिफ्ट करा जाएगा|

पिनाकी मिश्र, प्रदेश सरकार के अधिवक्ता ने तीन दिन पहले नेशनल ग्रीन ट्रिब्युनल (एनजीटी) की सुनवाई के वक्त कहा-“कानपुर की टेनरियों को दूसरी जगह शिफ्ट करने का प्रस्ताव तैयार है, सरकार इसकी रिपोर्ट 15 दिन के अंदर दे देगी।” सरकार कानपूर नगर के रमईपुर में लेदर क्लस्टर स्थापित करने की तैयारी में है| यह क्लस्टर परिसर करीब 500 एकड़ का होगा| शिफ्ट की हुई टेनियों को भी इस परिसर में स्थापित करने की योजना बनाई जा रही है| कुछ इसी तरह की व्यवस्था कन्नौज में भी की जा सकती है|

Loading...
Loading...